श्रीगर्ग संहिता (Shri Garg Sanhita)

श्रीगर्ग संहिता (Shri Garg Sanhita)
₹165.00
Book Code: 0517
इस में श्रीमद्भागवत में सूत्ररूप से वर्णित श्रीराधाकृष्ण की लीलाओं का विस्तृत वर्णन किया गया है। श्रीराधा जी के दिव्य आकर्षण से आकर्षित भगवान् श्रीकृष्ण का रासरासेश्वरी श्रीराधा एवं गोपिकाओं के साथ रासलीला का इतना सुन्दर और सरस वर्णन अन्यत्र दुर्लभ है।
Description

Details

यह ग्रन्थ यदुकुल के महान् आचार्य महामुनि श्रीगर्ग की रचना है। इस में श्रीमद्भागवत में सूत्ररूप से वर्णित श्रीराधाकृष्ण की लीलाओं का विस्तृत वर्णन किया गया है। श्रीराधा जी के दिव्य आकर्षण से आकर्षित भगवान् श्रीकृष्ण का रासरासेश्वरी श्रीराधा एवं गोपिकाओं के साथ रासलीला का इतना सुन्दर और सरस वर्णन अन्यत्र दुर्लभ है। पूर्वजन्म में गोपिकाओं द्वारा श्रीकृष्ण-प्रेम की प्राप्ति के लिये की गयी तपस्या तथा उनकी सरस कथाओं का भी इसमें सुन्दर वर्णन किया गया है। भगवान् श्रीकृष्ण के अनुरागी भक्तों के लिये यह दिव्य ग्रन्थ नित्य स्वाध्याय का विषय है।
Additional Information

Additional Information

Book Code 0517
Pages 576
Language हिन्दी, Hindi
Author गीता प्रेस
Size (cms.) 19.0 x 28.0