जीवन का सत्य (Jeevan Ka Satya)

जीवन का सत्य (Jeevan Ka Satya)
₹10.00
Book Code: 0416
शरीर और संसारसे ममता हट जानेपर अपने-आप तत्त्वका अनुभव हो जाता है। प्रस्तुत पुस्तकमें तत्त्वज्ञानके गूढ़ रहस्योंका अत्यन्त सरल भाषामें बोध कराया गया है।
Description

Details

शरीर और संसार से ममता हट जाने पर अपने-आप तत्त्व का अनुभव हो जाता है। प्रस्तुत पुस्तक में तत्त्वज्ञान के गूढ़ रहस्यों का अत्यन्त सरल भाषा में बोध कराया गया है।

Detachment from the body and the world leads to God-realization. The book explains in a very simple language the secrets of real knowledge.

Additional Information

Additional Information

Book Code 0416
Pages 96
Language हिन्दी, Hindi
Author स्वामी रामसुखदास, Swami Ramsukhdas
Size (cms.) 13.3 x 20.3