ॐ नमः शिवाय (Om Namah Shivay)

ॐ नमः शिवाय (Om Namah Shivay)
₹25.00
Book Code: 0204
इस पुस्तक में भगवान् शिव के द्वादश ज्योतिर्लिंगों का सरल परिचय दिया गया है। इस में ज्योतिर्लिंगों के उद्भव, विकास तथा माहात्म्य का मनोहर विवेचन है। पुस्तक में द्वादश ज्योतिर्लिंगों का आकर्षक रंगीन चित्र भी दिया गया है।
Description

Details

विशाल भारत के अनेकों स्थानों पर लिंगरूप से भगवान् शिव की पूजा-अर्चना होती चली आ रही है। ये स्वल्प उपासना से प्रसन्न होकर भक्तों को मनोवाञ्छित फल प्रदान करते हैं। इस पुस्तक में भगवान् शिव के द्वादश ज्योतिर्लिंगों का सरल परिचय दिया गया है। इस में ज्योतिर्लिंगों के उद्भव, विकास तथा माहात्म्य का मनोहर विवेचन है। पुस्तक में द्वादश ज्योतिर्लिंगों का आकर्षक रंगीन चित्र भी दिया गया है।

Lord Shiva is worshipped in the form of Linga in India in different places from time immemorial. Lord Shiva after being propitiated even by a little worship bestows his devotees their desired fruits. The evolution, development and nobility of twelve Jyotirlingas of Lord Shiva situated in different parts of the country has been described in this book. Attractive pictures of the twelve Jyotirlingas have also been given.

Additional Information

Additional Information

Book Code 0204
Pages 36
Language हिन्दी, Hindi
Author गीता प्रेस
Size (cms.) 19.0 x 28.0