अपरोक्षानुभूति (Aprokshanubhuti)

अपरोक्षानुभूति (Aprokshanubhuti)
₹5.00
Book Code: 0203
भगवान् शंकराचार्य के द्वारा प्रणीत यह छोटी-सी पुस्तिका तत्त्वज्ञान के बहुमूल्य उपदेशों के रूप में आत्मसाक्षात्कार का महामन्त्र है। सरल अनुवाद के साथ उपलब्ध।
Description

Details

भगवान् शंकराचार्य के द्वारा प्रणीत यह छोटी-सी पुस्तिका तत्त्वज्ञान के बहुमूल्य उपदेशों के रूप में आत्मसाक्षात्कार का महामन्त्र है। सरल अनुवाद के साथ उपलब्ध।

This small booklet composed by Bhagavan Shankaracharya in the form of valuable preachings regarding the knowledge of 'Self' is a great Mantra for attaining Self-realization. It is available with simple translation.

Additional Information

Additional Information

Book Code 0203
Pages 32
Language हिन्दी, Hindi, संस्कृत, Sanskrit
Author शकराचार्य, Shankaracharya
Size (cms.) 13.3 x 20.3