क्या गुरु बिना मुक्ति नहींं ? (Kya Guru Bina Mukti Nahi?)

क्या गुरु बिना मुक्ति नहींं ? (Kya Guru Bina Mukti Nahi?)
₹6.00
Book Code: 1072
इस पुस्तक में स्वामी रामसुखदास द्वारा सर्वसामान्य को कलियुगी गुरुओं के मायाजाल से सावधान करते हुए वास्तविक गुरु के रूप में परमात्मा का परिचय दिया गया है।
Description

Details

इस पुस्तक में स्वामी रामसुखदास द्वारा सर्वसामान्य को कलियुगी गुरुओं के मायाजाल से सावधान करते हुए वास्तविक गुरु के रूप में परमात्मा का परिचय दिया गया है

In this book Swami Ramsukhdas has laid a strong emphasis on Supreme Lord as a real preceptor (Guru) and at the same time warned each and everyone to refrain from so-called teachers of today.

Additional Information

Additional Information

Book Code 1072
Pages 64
Language हिन्दी, Hindi
Author स्वामी रामसुखदास, Swami Ramsukhdas
Size (cms.) 13.3 x 20.3